आज़ाद कश्मीर !!! कर दें ?????

यदि जम्मू-कश्मीर का इतिहास देखें तो पता चलता है कि इस राज्य ने आज़ादी के समय भारत और पाकिस्तान दोनों की ही प्रभुता मानने से इन्कार कर दिया था ।

भगत सिंह की उम्मींदों की स्याही

कल गुरदास मान जी का नया म्यूजिक विडियो देखा । आधुनिक काल की विसंगतियों को संक्षिप्त तौर पे दर्शाते हुए बहुत ही ह्रदयस्पर्शी, मार्मिक और बेहतरीन विडियो बन पड़ा है ।

मैं आभार कहाँ से लाऊँ?

आज सुबह की ठंड में कुछ ठिठुरन के साथ सिहरन भी है, अनमने से ह्रदय में चुभते कुछ सवालों के दंश भी हैं। मन में अंतर्दव्न्द छिड़ा हुआ है । एक “क्यूँ” बन्दर की तरह उत्पात मचा कर हर डाली को झिंझोर रहा है और सारे फलों को जूठन कर फेंक रहा है । मन में एक उलझन…

Sailing to a place where mind is free

It was not easy decision to write this blog. In greatest of the confusions, I wrote this piece. After procrastinating it for months, I, finally, could muster the courage to publish this blog.

Am I a small potato expanding like ginger?

I am a small potato and I have every possibility of growing into a decent, big Yukon Gold potato. But I am growing and expanding like a ginger –disproportionate? Is holistic growth that difficult to attain? I work with focus on goals- means my efforts and consciousness work as spotlight on the goal and leaving…