मैं हूँ ना, माँ

इतनी स्वार्थी….इतनी बीमार हो गयी मैं? मेरी बेटी स्कूल जाकर भी इस ख़याल से छूट नहीं पायी कि माँ ने उससे कहा ,’ तुम्हें पता है माँ बीमार है फिर भी तंग करती हो’ । बालमन पर यह कैसा बोझ रख दिया मैंने अनजाने में ?

Advertisements

मुजरिम हाज़िर हो

‘हाँ, जब तुम्हें पापा अच्छे लगे तो तुम इनका इंटरव्यू कर लेती । और पास होने पर शादी का डिसाइड करती वर्ना बस बॉयफ्रेंड बना लेती । किसी और का इंटरव्यू लेती और उससे शादी कर लेती ।‘

शिव के साथ वार्तालाप -२

तुम चुप क्यूँ हो ? कुछ तो कहो । कैसे मुस्कुराते पाते हो, शांत रह पाते हो ? क्या ताण्डव भूल चुके हो ?

Cultivating reading habit

There are many little ways to enlarge your child’s world. Love of books is the best of all. –Jacqueline Kennedy Onassis

पेरेंटिंग ज्ञान

अक्सर पढ़ने में आता है कि माँ-पापा बच्चे के आदर्श होते हैं । बच्चे उनके आचरण से सीखते हैं ना कि उनके मुहँ से निकले ज्ञान वचनों से । मैं एक छः वर्षीया कन्या की माँ हूँ और अपने अनुभव से आपको सचेत करना चाहती हूँ कि इन बातों में कदापि ना आयें ।

चिया और सिनेमाघर

कल एक बहुत ही महत्त्वपूर्ण दिन था, हमारे घर के लिए | मेरी छः वर्षीया बेटी को सिनेमाघर में फ़िल्में देखने का कोई शौक नहीं बल्कि अगर यह कहूँ कि उसे ऐसा करना सख्त नापसंद है तो कोई अतिश्योक्ति नहीं होगी | जब मेरी बेटी छोटी थी तो तेज़ आवाज़, घने अँधेरे में इतने बड़े…

Park or Stairs?

Yesterday, I saw a mother trying hard to convince her baby to buy a chocolate and her baby was insisting to buy Eclairs. Both had their reason to insist. I loved their squabble and it took me back to Jan 2013, where I and my daughter had a similar tussle.

Good girl

Labels are sticky notes that stay with a person, almost forever, in most of the cases. In this blog, I am not talking about ugly labels like loser, freak, idiot, stupid, thin, black and shy. I am talking about “perceived positive or good” labels. My six-year young daughter, Chia, asked me recently “Ma, am I…