कर्ण पक्ष लेना है या पार्थ बन जाना है

केवल जीत मायने नहीं रखती
लेकिन
खुद से खुद की संधि मायने रखती है

Advertisements